Beej Mantra: क्या होता है बीज मंत्र और जानें इसके चमत्कारी लाभ

You are currently viewing Beej Mantra: क्या होता है बीज मंत्र और जानें इसके चमत्कारी लाभ

हिंदू संस्कृति में, दैवीय ऊर्जा का आह्वान करने के लिए कई उपचार या मंत्रों का जाप किया जाता है। इसी तरह, भक्त अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए Beej Mantra का उपयोग करते हैं जिसे वैदिक बीज मंत्र भी कहा जाता है। इन मंत्रों का उपयोग भगवान से आशीर्वाद पाने के लिए किया जाता है और प्रत्येक मंत्र का अपना धार्मिक महत्व होता है।

ये Beej Mantra एक ही अक्षर से बने होते हैं और इनमें अपार शक्ति होती है। साथ ही, जब इन्हें लंबे मंत्रों के साथ जोड़ा जाता है तो इनकी शक्तियां बढ़ जाती हैं।

Beej Mantra क्या है?

शास्त्रों में कहा गया है कि किसी भी मंत्र की शक्ति उसके Beej Mantra में छिपी होती है। इनकी मदद से जीवन की किसी भी समस्या का समाधान किया जा सकता है। ये मंत्र किसी भी लंबी बीमारी, मानसिक तनाव या चिंता संबंधी समस्याओं को दूर करने में मदद करते हैं। हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण बीज मंत्र “ॐ” है। अन्य सभी बीज मंत्र अत्यंत लाभकारी हैं और विभिन्न देवी-देवताओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। बीज मंत्रों का जाप करके, भक्त आशीर्वाद मांगते हैं और अपने देवता की सेवा करते हैं, और मोक्ष प्राप्त करते हैं। बीज मंत्रों का जाप करने से आपके चारों ओर एक सकारात्मक ऊर्जा या शुद्ध आभा उत्पन्न होती है और वातावरण सकारात्मक रहता है। हमारे मानव शरीर के प्रत्येक प्रमुख चक्र से एक बीज मंत्र भी जुड़ा हुआ है।

महत्वपूर्ण Beej Mantra

अलग-अलग देवता की पूजा के लिए अलग-अलग मंत्र होते है। सबसे महत्वपूर्ण मंत्र हैं: ॐ, क्रीं, श्रीं, ह्रौं, ह्रीं, ऐं, गं, फ्रौं, दं, भ्रां, धूं, ह्लीं, त्रिं, क्रौं, धं, हं, रां, यं, क्षं, तं। इनमें से ॐ सबसे महत्वपूर्ण है।

  1. गं: यह भगवान गणेश का Beej Mantra है। यह जातकों को ज्ञान और धन का आशीर्वाद देता है।
  2. ह्रौं: यह भगवान शिव का मंत्र है। यह भक्तों को बीमारियों और मृत्यु से बचाता है।
  3. दं: यह भगवान विष्णु का मंत्र है। यह मंत्र हमारी मनोकामनाओं को पूर्ण कर जीवन में समृद्धि लाने में मदद करता है।
  4. रीं: इस मंत्र का प्रयोग राम मंत्र की शक्ति को बढ़ाने के लिए किया जाता है।
  5. क्रीं: इस मंत्र का प्रयोग देवी काली के लिए किया जाता है। यह मंत्र जीवन में आपके शत्रुओं और भय को परास्त करने में मदद करता है। इसका जाप इस प्रकार करना चाहिए: ‘ॐ क्रीं कालिकाय नम:।’
  6. श्रीं: घर और व्यापार में धन की वृद्धि के लिए देवी लक्ष्मी के इस बीज मंत्र का प्रयोग किया जाता है। यह मंत्र भक्तों पर धन और समृद्धि की वर्षा करने के लिए देवी लक्ष्मी का आह्वान करता है।
  7. ऐं: इस मंत्र का प्रयोग वह व्यक्ति करता है जो ज्ञान और बुद्धि प्राप्त करना चाहता है। यह देवी सरस्वती का आह्वान करने का मंत्र है।
  8. क्लीं: यह मंत्र प्रेम और भक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। यह कामदेव का Beej Mantra है और उनकी पूजा के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

उपरोक्त मंत्रों के साथ-साथ दो महत्वपूर्ण बीज मंत्र भी हैं जिन्हें नवग्रह बीज मंत्र और चक्र बीज मंत्र कहा जाता है।

  1. नवग्रह मंत्र: हमारी जन्म कुंडली में नौ ग्रहों के बुरे प्रभाव से राहत पाने के लिए नवग्रह मंत्रों का जाप किया जाता है। हर ग्रह का अलग-अलग मंत्र होता है इसलिए इनका जाप करने से सभी बुरे प्रभाव खत्म हो जाते हैं।
  2. चक्र मंत्र: यह मंत्र हमारे शरीर के चक्रों की ऊर्जा को सक्रिय करता हैं। एक निश्चित चक्र पर ध्यान केंद्रित करते हुए इन मंत्रों का जाप करने से सकारात्मक परिणाम मिलते हैं और हमारे जीवन के कई तत्वों और स्वास्थ्य में सुधार होता है।

Beej Mantra के लाभ

  1. नियमित रूप से बीज मंत्रों का जाप करने से जीवनशैली में हर तरह के सकारात्मक बदलाव आते हैं।
  2. ये मंत्र दिव्य ऊर्जा से जुड़ने और हमारी आध्यात्मिक यात्रा के द्वार खोलने में मदद करते हैं।
  3. ये मन की शांत स्थिति बनाए रखने में मदद करते हैं जो हमें अपने जीवन के लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करते हैं।
  4. ये मंत्र हमारी जन्म कुंडली में कमजोर ग्रहों की शक्ति को बढ़ाते हैं और अशुभ प्रभावों से राहत दिलाने में मदद करते हैं।
  5. नियमित रूप से इन मंत्रों का जाप करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है।

बीज मंत्रों की सम्पूर्ण जानकारी के लिए देखिये यह वीडियो:

निष्कर्ष

अलग-अलग देवताओं के लिए अलग-अलग मंत्र हैं। इनका लाभ पाने के लिए इन मंत्रों का सही तरीके से जाप करना जरूरी है।

यदि आप अपनी कुंडली के बारे में जानने के लिए किसी विशेषज्ञ की तलाश कर रहे हैं तो अभी हमसे संपर्क करें!

Vedic Astro Kendra

Mobile No.:+91-9810817817

WhatsApp: +91-9810817817

हमारी सेवाओं में ऑनलाइन पूजायंत्र और कवचकुंडली विश्लेषण (जन्म कुंडली का निर्माण और व्याख्या), वास्तु शास्त्र परामर्श, साथ ही रत्न और रुद्राक्ष के लिए व्यक्तिगत सिफारिशें शामिल हैं।